Monday, November 28, 2022
HomeHealth and Fitnessस्वस्थ रहने के लिए जानिए पानी पीने का सही तरीका

स्वस्थ रहने के लिए जानिए पानी पीने का सही तरीका

हमारे शरीर में लगभग 60 प्रतिशत हिस्सा पानी से ही बना है इससे पता चलता है की पानी हमारे शरीर के लिए कितना ज़रूरी है|

शरीर की ज़रूरत के हिसाब से हम सब पानी तो पीते है पर ऐसे कई सारे लोग है जिन्हे पानी पीने का सही तरीका हि नहीं मालूम और आप यकीन नहीं करोगे पर इन्ही गलत आदतों की वजह से हमारे शरीर पर बहुत बुरा असर पड़ता है जैसे हार्ट रेट कम हो जाना, पाचनतंत्र बिगड़ जाना या फिर किडनी से जुडी बीमारी हो जाना इन जैसी और भी कई सारी समस्यांओं का सामना करना पड़ सकता है|

इसलिए पानी पीने का सही तरीका जान लेना बहुत ही ज़रूरी है और अगर आपने ये जान लिया तो आप कई सारी बिमारियों से बच सकते हो और अपने आप को हेल्थी और फिट रख सकते हो|

पानी पीने के फायदे

1) इससे पाचनक्रिया अच्छे से होती है|

 2) शरीर में एनर्जी बनी रहती है |

 3) शरीर से विषैले तत्व बाहर निकलते है|

 4) मोटापा कम होने में मदद होती है|

 5) इससे आपकी स्किन की हेल्थ बेहतर होती है|

 6) इससे आपका तनाव कम हो जाता है|

 7) पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से किडनी स्टोन होने का खतरा भी कम हो जाता है|   

 Pani peene ke tarike

 1) उषापान करें:

Pani peene ka sahi tarika उषापान करें

  • सुबह उठने के बाद खाली पेट आप एक या दो गिलास हल्का गुनगुना पानी पीये और इसे ही उषापान कहते है| उषापान करने से आपके शरीर से विषैले तत्व बाहर निकलते है, आपका metabolism rate बढ़ता है और इससे आपका वजन कम हो जाता है| कब्ज से राहत मिलती है, समय से पूर्व बुढ़ापा(Premature Aging) नहीं आता, इससे आपका पित्त शांत रहता है और कफ भी संतुलित रहता है|

2) पानी कब पीये:

  • पानी पीने का सही समय आप को मालुम होना बहुत ही ज़रूरी है आप भोजन से 30 मिनट पहले एक गिलास पानी पी सकते है, भोजन के बाद कम से कम एक घंटे बाद आप पानी पीये इससे आपकी पाचनक्रिया अच्छी रहेगी| अगर आप खाना खाने के बाद तुरंत पानी पीते है तो आयुर्वेदा के अनुसार हमारे पेट में जल रही अग्नि जो की हमारा भोजन पचाने का काम करती है वो शांत हो जाती है और इससे खाना ठीक से नहीं पचता है और फिर अपचन और कब्जियत जैसी समस्याएं उत्पन्न होती है|
  • दिन भर में जब भी आप को प्यास लगे या आपके मुँह या होंठ सुख रहे हो तो आप अपने हिसाब से आधा या एक गिलास या फिर इससे ज्यादा भी पानी पी सकते हो पर याद रखें जितनी प्यास हो उतना ही पानी पीये जरूरत से ज्यादा पानी न पीये|

 3) पानी सिप सिप कर के पीये:

  • जब भी आप पानी पीये तो सिप सिप कर के यानिकि एक एक घूंट लेकर पानी पीये और आयुर्वेद के अनुसार यही पानी पीने का सही तरीका है| ऐसा करने से आपके मुँह में जो लार है वो ज्यादा मात्रा में आपके पेट में जायेगी और आपके पेट में जो आम्ल (Acids) है जो की हमारे भोजन को पचाने में मदद करता है उसका स्तर कम हो जाएगा और इससे हमारा पेट स्वस्थ्य रहेगा, आपका वजन कम हो जाएगा और इससे हम कई सारी बिमारियों से भी बच जाएंगे|

4) खड़े होकर पानी न पीये:

  • जब हम खड़े होकर पानी पीते है तो पानी में मौजूद ज़रूरी पोषक तत्व हमारे शरीर के अंधरुने हिस्सों तक ठीक से पहुँच नहीं पाते, इससे हमारे दिल और फेफड़ों के कार्यों में भी जोखिम पैदा हो जाती है, हमारा ऑक्सीजन का स्तर बिगड़ता है, पाचनतंत्र कमजोर होता है, किडनी से जुडी समस्याएं हो सकती है और साथ ही साथ गठिया (Arthritis) जैसे रोग होने की भी संभावना रहती है इसलिए ये पानी पीने का बहुत गलत तरीका है इसलिए पानी पीते समय किसी जगह आराम से बैठकर ही पानी पीये|

5) ठंडा पानी न पीये:

Pani peene ka sahi tarika ठंडा पानी न पीये

  • बहुत ही ज्यादा ठंडा यानिकि chilled water या फ्रिज का पानी अगर आप पीते हो तो अभी से सावधान हो जाए क्योंकि इससे हमारा पाचन तंत्र बिगड़ता है, कब्ज की समस्या होती है, हमारा हार्ट रेट भी कम हो जाता है और इसके आलावा हमारा शरीर का तापमान लगभग 36 से 37 डिग्री सेल्सियस तक रहता है और ऐसे में अगर आप ठंडा पानी पीयोगे तो हमारे शरीर का तापमान उससे मेल नहीं खायेगा और इसका बहुत बुरा असर हमारे शरीर पर पड़ेगा| इसलिए साधारण तापमान मतलब लगभग 20 डिग्री सेल्सियस का पानी ही आप पीये और हो सके तो आप हल्के गुनगुने पानी का भी सेवन कर सकते हो|

6) प्रतिदिन कितना पानी पीना चाहिए?

  • आप को प्रतिदिन कम से कम 8 गिलास पानी यानिकि लगभग 2 लीटर पानी पीना है| अगर आप को जरूरत हो तो आप इससे भी ज्यादा मात्रा में पानी पी सकते हो लेकिन आप जबरदस्ती ज्यादा पानी पीने की कोशिश न करें|

7) हमें कैसा पानी पीना चाहिए?

  • हमारे घर में जो पानी आता है उसे आप अच्छी तरह उबाल लें ताकि पानी में मौजूद जो हानिकारक तत्व है वो नष्ट हो जाए और चाहे तो आप उस पानी में फिटकिरी भी डाल सकते है ताकि पानी और ज्यादा शुद्ध हो सके; बस आप इतना भी कर लेंगे ना तो पानी हमारे पीने लायक हो जाएगा बाकी आप को कुछ करने की जरुरत नहीं है फिर तो ना आप को किसी purifier की जरुरत पड़ेगी और ना ही बोतल में भरी किसी mineral water की|
  • अगर आपके पानी पीने का बर्तन तांबे का है तो ये बहुत ही अच्छा है क्योंकि इससे पाचनक्रिया सही होती है, ये वजन को कम करने में फायदेमंद है, ये ख़राब बैक्टीरिया को मारता है, समय से पूर्व बुढ़ापे (Premature Aging) को रोकता है, इससे ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल में रहता है और ये आपके दिल के स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है और ये गठिया (Arthritis) जैसी बीमारी में भी लाभकारी है|

इन्हे भी पढ़ें

So guys आपको ये वाला article कैसे लगा ये comment section में ज़रूर बताना; साथ ही साथ कुछ suggestions हो तो बता देना और आपको किस topic पर article चाहिए ये भी बता देना|

आपका कोई personal question हो तो आप मुझे selfhelpinhindi@gmail.com पे मेल कर सकते हो|

Thank you, stay connected & love you guys…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments