NLP (Natural Language Processing) क्या है? दुनिया में योगदान

नमस्कार दोस्तों SelfhelpinHindi.com पर आप सभी का स्वागत है। आज इस लेख में हम जानेंगे कि NLP (नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग) Kya Hoti Hai, यह कैसे काम करती है, इसका उपयोग कैसे करें? इत्यादि के बारे में इस लेख में बताने जा रहे हैं तो इस लेख को आखिर तक जरूर पढ़ें। 

NLP (Natural Language Processing) क्या होती है? और दुनिया में योगदान-

  • NLP Kya Hai | NLP की फुल फॉर्म ” Natural Language Processing ” है। जोकि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) का हिस्सा है। जिसके जरिए मनुष्य और मशीन के बीच कम्युनिकेशन को समझा जाता है। NLP पूरी तरह से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित होता है जो किसी भी मनुष्य की तरह सोचने और बोलने की क्षमता प्रदान करता है। इस पूरी प्रक्रिया में मशीन को Step by Step प्रोग्राम किया जाता है ताकि वह आसान भाषा में जवाब दे सके। 
  • यदि हम आसान भाषा में समझे तो नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग पूरी तरह से मनुष्य की तरह सोचने समझने और निर्णय लेने में सक्षम होती है। आप अपने अनुसार Text में इनपुट देकर आसान से आसान आउटपुट ले सकते हैं। 

NLP (नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग) कैसे काम करती है

  • जैसा कि हमने ऊपर बताया है कि नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग तकनीक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित होती है। जिसकी प्रोग्रामिंग इस तरह से की जाती है की मशीन मनुष्य की तरह सोच सके और निर्णय ले सके। 
  • इस पूरी तकनीक में मनुष्य के व्यवहार को अध्ययन किया जाता है और फिर मशीन को प्रोग्राम किया जाता है। मशीन को प्रोग्राम करते समय Human Response पर अत्यधिक ध्यान दिया जाता है। तब जाकर मशीन, मनुष्य की तरह सोचने में सक्षम हो पाती है। 

NLP (नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग) का उपयोग कैसे करते है?

  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की दुनिया में नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग का इस्तेमाल मशीनों को मनुष्य के साथ बेहतर से बेहतर कम्युनिकेशन करने के लिए किया जा रहा है। इस तकनीक में मशीनों और रोबोट को इस तरह से तैयार किया जा रहा है कि मशीनें आसानी से मनुष्य के निर्देशों और कमांड को समझ सके और उनके अनुसार बेहतर से बेहतर आउटपुट दे सके। 
  • इस तकनीक का इस्तेमाल हर एक छोटी बड़ी कंपनियां महत्वपूर्ण डांटा को प्राप्त करने के लिए कर रही है। नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग का इस्तेमाल आज अनेकों भाषाओं में हो रहा है। इसका प्रमुख उद्देश्य किसी भी भाषा में पूछे गए सवाल को अलग-अलग भाषाओं में सरल तरीके से ट्रांसलेट करके देना होता है। 
  • यहा हमने नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग की बात की है जो पूरी तरह से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग पर निर्भर होती है तो इन तीनों का इस्तेमाल करके ही एक मशीन को बेहतर कमांड के लिए तैयार किया जाता है। 

NLP (नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग) के फायदे क्या -क्या है?

  • NLP (नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग) मनुष्य की तरह सोचने और समझने की क्षमता रखता है। 
  • यह मनुष्य और कंप्यूटर के बीच में कम्युनिकेशन को बेहतर बनाने में मदद करता है। 
  • नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग की मदद से आप किसी भी सवाल का बिल्कुल सटीक जवाब प्राप्त कर सकते हैं। 
  • नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग टूल की मदद से आप अपने कार्य की प्रोडक्टिविटी को बढ़ा सकते हैं। 
  • इस तकनीक का इस्तेमाल करके लागत को कम किया जा सकता है। 
  • नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग की मदद से कम समय में कार्य को पूरा किया जा सकता है। 

NLP (नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग) के नुकसान क्या-क्या है?

  • जिस तरह से नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग के फायदे होते हैं। ठीक उसी तरह से इसके कुछ नुकसान भी होते हैं जो इस प्रकार से है। 
  • नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की तरह भविष्यवाणी करने में सक्षम नहीं होती है। 
  • नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग के जवाब पूरी तरह से सही नहीं होते हैं। बहुत बार गलत भी हो जाते हैं। 
  • नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की तरह तथ्य पर आधारित जवाब देने में असमर्थ होती है। 
  • इसका इस्तेमाल केवल विशेष कार्यो के लिए ही किया जाता है। 

NLP के प्रमुख चरण कौन -कौन से है?

  1. Syntactic Analysis

  2. Discourse Integration

  3. Pragmatic Analysis

  4. Lexical Analysis

  5. Semantic Analysis

इन्हे भी पढ़े

निष्कर्ष (Conclusion)- 

  • आज हमने जाना है ” NLP (नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग) Kya Hoti Hai ” उम्मीद करते हैं कि इस लेख में बताई गई नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग की जानकारी आप सभी को जरूर अच्छी लगी तो आपको ये आर्टिकल कैसे लगा ये आप हमें कमेंट कर के ज़रूर बताये। 

NLP (नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग) से रिलेटेड पूछे जाने वाले अक्सर सवाल 

1) NLP (नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग) क्या है?

  • NLP पूरी तरह से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित होता है जो किसी भी मनुष्य की तरह सोचने और बोलने की क्षमता प्रदान करता है। इस पूरी प्रक्रिया में मशीन को Step by Step प्रोग्राम किया जाता है ताकि वह आसान भाषा में जवाब दे सके। 

2) आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग की भूमिका क्या है?

  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग के माध्यम से मशीनों में किसी भी भाषा को आसान से आसान भाषा में ट्रांसलेट करके संचार करने में सक्षम बनाया जाता है। इस तकनीक का इस्तेमाल करके मशीनों को इस तरह से तैयार किया जाता है कि वह मनुष्य की तरह निर्देशों और कमांड को समझ सके। 

3) NLP (नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग) का इस्तेमाल कैसे करते है?

  • NLP (नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग) का इस्तेमाल बड़ी-बड़ी कंपनियां महत्वपूर्ण डांटा को प्राप्त करने के लिए कर रही है। नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग का इस्तेमाल आज अनेकों भाषाओं में हो रहा है। इसका प्रमुख उद्देश्य किसी भी भाषा में पूछे गए सवाल को अलग-अलग भाषाओं में सरल तरीके से ट्रांसलेट करके देना होता है। 
  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की दुनिया में नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग का इस्तेमाल मशीनों को मनुष्य के साथ बेहतर से बेहतर कम्युनिकेशन करने के लिए किया जा रहा है। इसका सबसे अच्छा Example “Google Assistant” है। जब भी आप Google Assistant को कोई भी भाषा में कमांड देते हैं तो आपको उस सवाल से रिलेटेड आउटपुट देता है जो कि बिल्कुल सटीक होता है। 

This Post Has 2 Comments

  1. Anirudh

    Bhut hi informative article hai, Deep learning par bhi ek article de sir ho sake to.

Leave a Reply