Sunday, October 2, 2022
HomeHealth and Fitnessनींद नहीं आने का कारण और उपाय

नींद नहीं आने का कारण और उपाय

अच्छी नींद लेना हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए बहुत ही ज़रूरी है इसलिए हररोज़ कम से कम 6 से 7 घंटे की नींद लेनी ही चाहिए| लेकिन आज कल की भाग दौड़ भरी जिंदगी और तनाव के कारण हमें एक अच्छी नींद भी नसीब नहीं हो पाती| नींद न आने के कारण है और इससे कई सारी मानसिक तथा शारीरिक समस्याएं उत्पन्न हो जाती है|

जैसे की डायबिटीज, दिल से जुडी बीमारी होना, तनाव और डिप्रेशन का शिकार होना, स्वाभाव में चिड़चिड़ापन आना, काम में मन न लगना इन जैसी और भी कई सारी समस्याएं उत्पन्न हो जाती है इसलिए अगर इन सबसे बचना है तो हमें नींद न आने के कारण को जानकर उन सब चीज़ों को बंद करना होगा जो आपकी नींद ख़राब करते है| तो आईये इस आर्टिकल के ज़रिये हम उन्ही कारणों को जानेंगे और उनका हल भी निकालेंगे ताकि आपके नींद में किसी भी चीज़ की बाधा न आ सकें|

नींद न आने के कारण

1) सोने से पहले मोबाइल का इस्तेमाल:

Neend na aane ke karan मोबाइल का इस्तेमाल

  • आजकल यही सबसे बड़ा नींद न आने के कारण में से एक है क्योंकि हम सबको मोबाइल की लत इतनी लग चुकी है की सोने के समय भी हम मोबाइल देखने से नहीं चुंकते| मोबाइल स्क्रीन से जो रोशनी निकलती है वो सीधा हमारे मेलाटोनिन नामक हार्मोन पर असर करती है और उसके निर्माण पर रोक लगाती है जिससे की हमारी नींद का चक्र बिगड़ता है और आप को रात में नींद आने में दिक्कत होती है|
  • सोने से एक घंटे मोबाइल फोन का इस्तेमाल करना बंद कर दे| मोबाइल की जगह सोते समय आप अच्छी अच्छी किताबें पढ़ सकते है इससे आप को नींद आने में सहाय्यता मिलेगी|

2) दिनचर्या का सही न होना:

  • रात के समय अधिक भोजन करना और देर से भोजन करना, देर रात तक टीवी देखना, दोपहर में सोना और सोने का समय निश्चित न होना ये सभी चीज़ें नींद न आने के कारण ही है और इन सब बातों का हमारे स्वास्थ्य पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है इसलिए सबसे पहले अपने दिनचर्या को सही बनाइये|
  • रात के समय हल्का आहार लें जैसे सुप, खिचड़ी वगैरह और रात को 6 से 8 के बिच खाना खालें, दोपहर में अगर सोना ही है तो 15 से 20 मिनट तक की नींद के सकते है पर इससे ज्यादा नहीं; नहीं तो रात में आप को जल्दी नींद नहीं आ पाएगी और सबसे ज़रूरी आप अपना सोने का एक निश्चित समय बना लीजिये और हर रोज़ उसी समय सोईये|

3) चिंता और तनाव:

  • आज कल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में चिंता और तनाव तो आम बात बन गयी है और ये भी नींद न आने के कारण है| आप को किस बात से चिंता या तनाव महसूस होता है ये जानने की कोशिश करिये| अपनी फॅमिली से या अपनी किसी करीबी दोस्त से आपके चिंता और तनाव के बारे में बात करें और उसका हल निकालने की कोशिश करिये| अगर हद से ज्यादा तनाव है तो मनोचिकित्सक की सलाह लें और अपने आप को तनाव और चिंता से मुक्त रखिये|

4) ज्यादा सोचना:

  • सोने से पहले किसी भी चीज़ के बारे में ज्यादा न सोचे नहीं तो वही सारी बातें आपके दिमाग में चलती रहेंगी और इस वजह से आप को देर रात तक नींद नहीं आएगी| इसलिए सोने से पहले किसी भी चीज़ के बारे में ज्यादा न सोचे और कुछ चीज़ों को कल पर छोड़ दें|

5) चाय या कॉफ़ी पीना:

  • कुछ लोग सोने के समय चाय या कॉफी पीना पसंद करते है पर इसका हमारी नींद पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है| चाय और कॉफी में कैफीन नामक पदार्थ पाया जाता है जो की हमारे शरीर में मौजूद मेलाटोनिन नामक हार्मोन जो की हमारे नींद के चक्र को नियंत्रित करता है उसका निर्माण रोकता है और इस वजह से हमें जल्दी नींद नहीं आ पाती| इसलिए सोने के समय चाय या कॉफ़ी का सेवन न करें|

6) धूम्रपान की आदत:

Neend na aane ke karan धूम्रपान

  • सिगारेट में मौजूद निकोटिन एक उत्तेजक पदार्थ है जिससे की आप के नींद में बाधा पैदा होती है और ये कैफीन के समान ही काम करता है|
  • धूम्रपान जैसी बुरी आदत को छोड़ने के लिए आप को बुरी संगत को छोड़ना पड़ेगा, सिगरेट जैसी बुरी चीज़ों से अपने आप को दूर कर के अच्छी आदतों को अपनाना होगा, हो सके तो दूसरों की मदद लो और इस आदत को छोड़ने के लिए आप को अंदर से दृढ़ संकल्प भी लेना होगा|

7) कमरे में ज्यादा रोशनी होना:

  • जहा पर भी आप सो रहे हो तो कोशिश करना की वहा पे कम से कम रोशनी हो या आप पुरे कमरे में अँधेरा कर के भी सो सकते हो| अगर आप किसी ऐसी जगह पर सो रहे हो जहा पर रोशनी ज्यादा है तो इससे सोने में दिक्कत आती है क्योंकि रात को सोते समय जब हम रोशनी के संपर्क में आते है तब हमारे दिमाग में मेलाटोनिन नामक हार्मोन जो की हमारी नींद के चक्र को नियंत्रित करता है वो पर्याप्त मात्रा में नहीं बन पाता औ इससे हमें नींद नहीं आ पाती इसीलिए रात के समय से हमें रोशनी में नहीं सोना चाहिए|

8) मूड ठीक न होना:

  • कभी कभी दिन भर की कुछ बातों से हमारा मूड ख़राब हो जाता है और उसीके वजह से गुस्सा, चिड़चिड़ापन, उदासी और निराशा जैसी भावनाएं उत्पन्न होती है और इसी के कारण हमें नींद नहीं आती|
  • रात को सोते समय दिन भर में जो कुछ भी चीज़ें हुई जिनकी वजह से आपका मूड ख़राब हुआ है उन बातों को मत सोचिये और अपने आप को रिलैक्स करिये, 10 से 15 बार गहरी साँसे लीजिये इससे आपका मन शांत हो जाएगा, सोने से पहले आप 5 से 10 मिनट तक मैडिटेशन भी कर सकते हो और अच्छी नींद के लिए भ्रामरी प्राणायाम भी बहुत लाभकारी है|

So guys आपको ये वाला article कैसे लगा ये comment section में ज़रूर बताना; साथ ही साथ कुछ suggestions हो तो बता देना और आपको किस topic पर article चाहिए ये भी बता देना|

आपका कोई personal question हो तो आप मुझे selfhelpinhindi@gmail.com पे मेल कर सकते हो|

Thank you, stay connected & love you guys…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments