Home Personality Development Communication Skills सॉफ्ट स्किल क्या है? जानिए करियर Growth में Soft Skills के महत्व

सॉफ्ट स्किल क्या है? जानिए करियर Growth में Soft Skills के महत्व

0
504
सॉफ्ट स्किल

कई सारे लोग अपनी पढ़ाई तो बहुत अच्छे से पूरी कर लेते है लेकिन पढ़ाई के अलावा भी कुछ ऐसी चीज़ें होती है जिनको सीखना बेहद ज़रूरी होता है और उनमे से ही एक चीज़ है सॉफ्ट स्किल्स| सॉफ्ट स्किल के ज़रिये आप लोगों में अपनी एक अलग पहचान बनाकर अपने करियर में सफल बन सकते हो|

सॉफ्ट स्किल में बहुत ही बुनियादी चीज़ें शामिल है जैसे की कम्युनिकेशन स्किल्स, लीडरशिप स्किल्स, टाइम मैनेजमेंट और टीम वर्क| इसके अलावा और भी कुछ महत्वपूर्ण चीज़ें है जो आपके रोज़मर्रा की जिंदगी के लिए बेहद फायदेमंद है| तो आज इस आर्टिकल के ज़रिये हम सॉफ्ट स्किल को Detail में जानने की कोशिश करते है|

सॉफ्ट स्किल का मतलब (Soft Skill Meaning in Hindi)

ये एक ऐसी चीज़ है जिससे की आपके पुरे पर्सनालिटी पर प्रभाव पड़ता है और इससे आप को जॉब में, बिज़नेस में या फिर किसी भी करियर में सफलता पाने में बहुत मदद मिलती है| सॉफ्ट स्किल में कुछ ज़रूरी चीज़ें शामिल है जैसे की लोगों से अच्छे से बात करना, उनसे अच्छा बर्ताव करना, अपने टाइम को सही से मैनेज करना, सही से निर्णय लेना, अपने बॉडी लैंग्वेज पर ध्यान देना और परिस्थिति के अनुसार अपने आप को ढाल लेना,सही निर्णय लेना, टीम वर्क करना और एक अच्छा लीडर बनना इन सभी चीज़ों को ही स्किल्स कहा जाता है|

Types of Soft Skills in Hindi

1) कम्युनिकेशन स्किल्स:

सॉफ्ट स्किल कम्युनिकेशन स्किल्स

  • लोगों के सामने अपनी बातों को सही तरह से रखना, लोगों की बातों को अच्छी तरह से सुनना, बातचीत करते वक़्त परिस्थिति के अनुसार अपनी आवाज़ का लहज़ा (Tone of voice) सही रखना, बात करते वक़्त आवाज़ में उतार चढ़ाव रखना (Voice modulation), आत्मविश्वास के साथ बात करना और हर एक शब्द को सही और स्पष्ट तरीके से कहना ये सभी चीज़ें कम्युनिकेशन स्किल्स में आती है इसलिए ये एक महत्वपूर्ण सॉफ्ट स्किल मानी जाती है|

2) बॉडी लैंग्वेज:

  • लोगों से बात करते वक़्त सही से Eye contact बनाकर बात करना, अपना Body posture पर ध्यान दो यानिकि बैठने पर, खड़े होने पर और चलते वक़्त आप अपने कंधों को सीधा रखना, किसीसे भी मिलते वक़्त अपने चेहरे पर एक हल्की सी हसी रखना, किसीसे बात करते वक़्त परिस्थिति के अनुसार अपने चेहरे पर हाव भाव रखना, अपनी बातों को कहते वक़्त हाथों का इस्तेमाल करना और कपडे पहनने की समझ होना (Dressing sense) ये सभी बातें बॉडी लैंग्वेज में आती है इसलिए कम्युनिकेशन के बाद बॉडी लैंग्वेज भी एक ज़रूरी सॉफ्ट स्किल है|

3) टाइम मैनेजमेंट:

  • आप अपना समय किस तरह से बिताते है, दिन भर में कौन कौनसी चीज़ें करते है और कितना समय आप यूँही जाया कर देते है इन सब बातों को जानकर अपने ज्यादा से ज्यादा समय को सही कामों में लगाना ही टाइम मैनेजमेंट कहलाता है|

4) टीम वर्क:

सॉफ्ट स्किल टीम वर्क

  • टीम वर्क करना भी एक सॉफ्ट स्किल माना जाता है| इसमें टीम मेंबर्स के साथ मिलकर आपके ऊपर सौंपा गया काम अच्छे से पूरा करना, टीम मेंबर्स की बातों को सुनना, ज़रूरत पड़ने पर उन्हें मोटीवेट करना, उन्हें सपोर्ट करना, हर एक टीम मेंबर को उनके काम के बारे में अच्छे से जानकारी देना और टीम मेंबर्स को काम सौंपना (Delegation of work) ये सभी चीज़ें आती है|

5) लीडरशिप स्किल:

  • टीम वर्क की साथ साथ आप में लीडरशिप स्किल्स होनी बेहद ज़रूरी है क्योंकि बगैर इसके आप टीम वर्क अच्छे से नहीं कर पाएंगे| लीडरशिप स्किल के लिए आप में कुछ qualities का होना ज़रूरी है जैसे की लोगों पर नियंत्रण रखना, अपनी जिम्मेदारी सही से निभाना, का में आने वाली समस्याओं का हल निकालना, अपने टार्गेट्स को वक़्त पर पूरा करना, सही से निर्णय लेना, अपने का के प्रति ईमानदार होना, नयी नयी technologies के बारे में पता होना और सभी से अच्छा बर्ताव रखना ये एक लीडर की खासियत होती है और ये सभी चीज़ें सॉफ्ट स्किल में आती है|

6) सही निर्णय लेने का कौशल (Decision making skill):

  • सही वक़्त पर सही निर्णय लेना ये भी एक बहुत ज़रूरी सॉफ्ट स्किल है| निर्णय लेते वक़्त अपने आपको समय देना, उस निर्णय से होने वाले फायदे और नुकसान के बारे में सोचना, लोगों से सुझाव लेना और अपने सामने मौजूद विकल्पों (Options) के बारे में पुनर्विचार करना ये सभी चीज़ें महत्वपूर्ण होती है|

7) समस्या का हल निकालना (Problem solving skills):

  • जीवन में आप को किसी भी तरह की समस्या आ जाए लेकिन सोच समझकर उस समस्या का हल निकालना बेहद ज़रूरी होता है| समस्या का हल निकालने के लिए समस्या का कारण ढूंढिए, उस समस्या से बाहर आने के रास्ते खोजे, समाधान (Solution ) के बारे में सोचिये, हर संभावनाओं (Possibilities) पर विचार करें और एक योजना के हिसाब से काम करें|

8) काम की नैतिकता (Work ethics):

सॉफ्ट स्किल काम की नैतिकता

  • अपने काम के प्रति ईमानदार रहना, अपने काम की पूरी जिम्मेदारी लेना, अनुशासन (Discipline) में रहना, टीमवर्क में काम करना, एक दूसरे के प्रति सम्मान रखना, अपने प्रोडक्टिविटी को बढ़ाना और समय के साथ अपने काम के गुणवत्ता (Quality) को बढ़ाना ये सभी चीज़ें work ethics में आती है और ये सभी चीज़ें सॉफ्ट स्किल में ही आती है|

9) अनुकूलन क्षमता (Adaptability):

  • अपने comfort zone से बाहर निकलकर परिस्थिति के अनुसार अपने आप को ढाल लेना और बदलाव को स्वीकार करना इसेही हम अनुकूलन क्षमता कहते है| जैसे की मानलो अगर आप की जॉब किसी दूसरे शहर में लग गयी है तो आप अपने शहर को छोड़कर यानिकि comfort zone से बाहर निकलकर वो जॉब करने के लिए जाते हो और वहा के वातावरण में खुद को ढाल लेते हो तो आप में भी अनुकूलन क्षमता है|

10) इंटरपर्सनल स्किल्स:

  • लोगों को सम्मान देना, उनके साथ अच्छे से पेश आना, लोगों के लिए हमदर्दी रखना, अपने और लोगों के प्रति जागरूकता रखना, ज़रूरत पड़ने पर लोगों को दिलासा देना उन्हें सपोर्ट करना, लोगों को अच्छा performance देने के लिए के प्रोत्साहित करना, लोगों के सामने अपने विचार प्रकट करना / अपनी बात कहना (Public speaking skills), लोगों को अच्छी सलाह देना और अपनी बातों से लोगों को हसाना (Sense of humor) ये सभी चीज़ें इंटरपर्सनल स्किल्स में आती है|

11) क्रिटिकल थिंकिंग स्किल:

  • किसी भी चीज़ के बारे में तर्क संगत लगाकर सोचना यानिकि उस चीज़ को facts के basis पर सोचना, उसका अच्छी तरह से विश्लेषण करना, हमारी सोच को देखना और फिर खामियों को ठीक करना ये सभी चीज़ें क्रिटिकल थिंकिंग में आती है|

उदाहरण :

जैसे की अगर आप किसी इम्पोर्टेन्ट प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हो तो उस प्रोजेक्ट के बारे में अच्छे से जानकारी लेना, उसे अच्छी तरिके से कैसे पूरा किया जा सकता है और उसमे कौन कौनसी कठिनाई आ सकती है इसके बारे में सोचना और उस प्रोजेक्ट के खामियों को निकालना और उसपर काम करना;ये क्रिटिकल थिंकिंग का अच्छा उदाहरण है|

Conclusion

तो आज इस आर्टिकल के ज़रिये हमें अपने सॉफ्ट स्किल को improve करने के लिए किन किन चीज़ों पर काम करना होगा इस बारे में हमने जाना| जिसमे टाइम मैनेजमेंट, टीम वर्क, सही निर्णय लेना, लीडरशिप, कम्युनिकेशन और इंटरपर्सनल स्किल्स, क्रिटिकल थिंकिंग स्किल, बॉडी लैंग्वेज, परिस्थिति के हिसाब से अपने आप को ढाल लेना और सोच समझकर समस्या का हल निकालना ये सभी महत्वपूर्ण चीज़ें शामिल थी|

इन्हे भी जरूर पढ़ें

  1. कम्युनिकेशन स्किल कैसे सीखें
  2. Body Language Tips in Hindi
  3. टाइम कैसे मैनेज करे
  4. Leadership Skills in Hindi

So guys आपको ये वाला article कैसे लगा ये comment section में ज़रूर बताना; साथ ही साथ कुछ suggestions हो तो बता देना और आपको किस topic पर article चाहिए ये भी बता देना|

आपका कोई personal question हो तो आप मुझे selfhelpinhindi@gmail.com पे मेल कर सकते हो| Thank you, stay connected & love you guys…

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here