Thursday, September 29, 2022
HomeHealth and FitnessYoga क्या है - योगा के 5 प्रमुख आसन और उनके फायदे

Yoga क्या है – योगा के 5 प्रमुख आसन और उनके फायदे

योगा हम शारीरिक और मानसिक एकीकरण के लिए करते हैं| रोज़मर्रा की ज़िंदगी में हम इतने बीजी हो गए हैं कि खुद पर ध्यान नहीं दे पाते और हमारा स्ट्रेस भी बढ़ता जा रहा है ऐसे में निरोगी जीवन जीने के लिए और दिमाग को शांत रखने के लिए योगा एक औषधि का काम करता है|

अब 21 जून 2022 को अन्तर्राष्ट्रीय योगा दिवस मनाया जाएगा| प्राचीन समय में लोग अपने दिन की शुरुवात योगा से ही किया करते थे इससे शरीर में लचीलापन और विचारों पर नियंत्रण करने के लिए बहुत से योगासन और प्राणायाम है|योगा  से हमारा मन प्रसन्न होता है, दिमाग मजबूत बनता है और शरीर में ऊर्जा भर जाती है|

योगा को नियमित रूप से करने हमारे अंदर सकारात्मकता आती है इसके अलावा योगा से हम वजन कम करके शरीर को ताकतवर बना सकते है और बहुत सी बीमारियों पर काबू कर सकते है|

योग का क्या अर्थ है

योगा शब्द की उत्पत्ति संस्कृत भाषा के ”यूज” इस शब्द से हुयी है जिसके दो अर्थ है एक है जुड़ना और दूसरा अर्थ है समाधी| मतलब की योगा के ज़रिये हम खुद को जान पाते है खुद से जुड़ पाते है और फिर समाधी अवस्था में जा सकते है|

योगा एक शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक प्रक्रिया है जिसका मूल उद्देश्य अपने चेतना को पहचानते हुए अपने मन को स्थिर और नियंत्रित करना है| कई सारे लोग इसे बस एक एक्सरसाइज के रूप में ही देखते है पर ऐसा नहीं है| योगा एक्सरसाइज के साथ साथ एक आध्यात्मिक प्रक्रिया है जिसमें आत्मा और परमात्मा का मिलन होता है|

योगा कैसे करें?

योगा करने के लिए आपको कुछ ज़रूरी बातों को ध्यान में रखना है|

1) सुविधाजनक समय का चयन |

2) योगा करने के 2 से 3 घंटे पहले खाने खाएं और योगा करने के 30 मिनट बाद ही कुछ खाये या पीये|

3) आरामदायक कपड़े पहने जो ना ज़्यादा ढीले हो और ना ज़्यादा टाइट|

4) शांत और हवादार जगह|

5) योगा करने के लिए दरी या मैट का इस्तेमाल करें|

योगा के 5 प्रमुख आसन और उनके फायदे

1) सेतु बांध (Bridge Pose)

bridge pose in hindi

इस आसान को करते हुए हम शरीर को सेतु यानी ब्रिज की तरह बना कर रखते है इसीलिए इसे सेतु बांध कहा जाता है|

Step 1: इसको करने के लिए आप पीठ के बल मैट पर लेट जाएं और अपने घुटनों को मोड़ते हुए तलवों को जमीन पर रखें|

Step 2: हथेली को खोले और हाथों को दोनो तरफ एक दम सीधा करें| जिससे हाथों के उंगली पैरों की एड़ी के पास आ जाए|

Step 3: अब सांस लेते हुए कमर को उठाएं|हाथों और पंजो पर जोर डलते हुए जितना हो सके उतना कूल्हे (शरीर के धड़ का निचला भाग जो उदर और जांघों के बीच में स्थित होता है।)  को ऊपर उठाएं|रीढ़ की हड्डी को सीधा रखे| 2 से 4 मिनट तक इसी मुद्रा में रुके|

फायदे

  • अस्थमा, उच्च रकतचाप में लाभकारी है|
  • थकान, कमर दर्द, अनिंद्रा की समस्या को कंट्रोल होती है|
  • वजन कम होकर शरीर स्वस्थ बनता है|
  • पैरों, कंधो, छाती में रक्त संचार बड़ने से मासपेशियां मजबूत होती है|
  • पाचन में सुधार होता है|

2) वृक्षासन (Tree pose)

योगा क्या है वृक्षास Tree pose

  • इस योगा आसन को करने से हमारा शरीर वृक्ष यानी पेड़ की तरह दिखाई देता है इसीलिए इसे वृक्षासन कहते हैं|ये आसन स्थिरता प्रधान करता है|इसको करते हुए शरीर को संतुलित करना बहुत ज़रूरी है|

Step 1: वृक्षासन करने के लिए आप सीधे खड़े हो जाएं|अपने दोनो हाथों को साइड में रखें|

Step 2: अब दाहिने पैर को मोड़ते हुए पंजे को बांहे पैर की जांघ पर रखें|इस दौरान बांहे पैर को जमीन पर मजबूती से टिकाए रखें|

Step 3: अब धीरे धीरे सांस लेते हुए दोनो हाथों को ऊपर की तरफ लाकर जोड़ें और आंखे खुली रखे|

Step 4: अब किसी भी वस्तु पर ध्यान केंद्रित करें|ऐसा करने से एकाग्रता बढ़ेगी और शरीर संतुलित होगा|

Step 5: सांस लेते रहे छोड़ते रहे इसी अवस्था में 2 से 3 मिनट रुके|फिर धीरे धीरे हाथ अलग करते हुए सामान्य पोजिशन में आ जाए|

फायदे:

  • वृक्षासन शरीर में संतुलन लाकर, एकाग्रता को बढ़ाता है सहनशक्ति बढ़ाने में मदद करता है|
  • ये पैर, जांघो, रीढ़ की हड्डी की मासपेशियों में लचीलापन लाकर उन्हें मजबूत बनाता है|
  • ये एक स्टैंडिंग पोजीशन है इसलिए इससे हमारा मानसिक और शारीरिक संतुलन बना रहता है|

3) वज्रासन:

  • खाना खाने के बाद किए जाने वाला योगा के इस सरल आसन से हम अपने शरीर को पूरी तरह से सवस्थ रख सकते हैं| ये पेट से जुड़ी बहुत सी बीमारियों से बचा सकता है|आइये जाने वज्रासन केसे करें|

Step 1: योगा मेट पर अपने घुटने मोड़ कर बैठ जाएं| रीढ़ को सीधी रखें|

Step 2: अब पैर के दोनो अंगूठों को पास लाए और एड़ियों पर अपने कूल्हों को रखें|

Step 3: याद रहे दोनो घुटने साथ साथ हों| हाथों को पैरों पर रखें| सामान्य रूप से सांस लेते रहें|

Step 3: शुरुवात में 3 से 4 मिनट के लिए इसी अवस्था में रुके| फिर अपने कंफर्ट के हिसाब से टाइम बढ़ाएं|शरीर के साथ जबरदस्ती ना करें|

फायदे:

  • इसे करने से पाचन से जुड़ी समस्या में सुधार आता है|कबज से छुटकारा मिलता है|
  • रक्त संचार को बढ़ा कर हृदय और मस्तिष्क से जुड़े रोगों में सुधार करता है
  • ध्यान लगाने के लिए भी हम इस आसन को कर सकते है
  • पीठ के निचले हिस्से, जांघ, पैरों की मासपेशियों को मजबूती देकर उनसे जुड़ी समस्या को कम करता है |

4) शीर्षासन (Headstand)

योगा क्या है शीर्षासन Headstand

  • शीर्षासन के अनगिनत फायदे होने के कारण इसे सब आसन में महान माना जाता है इसको करने के लिए शरीर को संतुलित होना बहुत ज़रूरी है|इस आसन को सिर के बल उल्टा लेट कर किया जाता है जिसके कारण इसे करना कठिन होता है|शुरुवात में इसे योगी की देख रेख में ही करना चाहिए|

Step 1: सबसे पहले जमीन पर डरी बिछाकर वज्रासन में बैठ जाएं| अपनी हथेली को एक दूसरे के ऊपर रखकर लॉक कर लें|

Step 2: अब अपने सिर को झुका कर जमीन पर टीकाएं और हथेलियों के बीच रखे|और पैरों की उंगलियों पर बैठ जाएं|

Step 3: अपने पैरों को ऊपर की ओर धीरे धीरे उठाएं|ऐसा करते हुए आप दीवार का सहारा भी ले सकते हैं|

Step 4:जितना हो सके पैरों को सीधा करे| इस दौरान आपका शरीर एक सिद्ध में होना चाहिए|पूरा जोर सिर पर डाले|

Step 5: संतुलन अच्छे से बनाए रखें|अगर शुरुवात में आप पैर सीधे नहीं कर पा रहे हैं तो उन्हें मोड़ भी सकते है

Step 6: सांसे लेते रहे|कुछ सेकंड तक इसी मुद्रा में रुके|

Step 7: अब सांस छोड़ते हुए|पैरों को नीचे लाकर सामान्य पोजिशन में आ जाएं|

फायदे

  • ये सिर से जुड़ी हर समस्या में लाबदयक है जैसे सिर में दर्द, चक्कर आने की समस्या
  • शीर्षासन से बालों के झडने की समस्या खत्म होती है| बालों को मजबूती मिलती है|
  • पाचनतंत्र को ठीक करता है जिससे कभी कबज नहीं होती|
  • रक्त संचार का बहाव बढ़ता है| ऐसे में तनाव व चिंता से राहत मिलती है|

5) चक्रासन

  • यह एक ऐसा योगा आसन है जिसमें आप अपने शरीर को मोड़ कर चक्र यानी पहिए की आकृति देते हैं|इस आसन से शरीर में खून का बहाव बढ़ता है जिससे आप हमेशा जवान नजर आते हैं और बॉडी टोन रहती है|

Step 1: चक्रासन को करने के लिए जमीन पर पीठ के बल लेट सीधे लेट जाएं|

Step 2: अब अपने घुटनों को मोड़ते हुए|तलवों को जमीन पर रखे|एड़ियों को कूल्हों के पास लाएं|

Step 3: कोहनी मोड़ते हुए हाथों को कंधे के पास लाएं|अब गहरी सांस लेते हुए|कमर के निचले हिस्से को उठाएं|

Step 4: इसी पोजिशन में कुछ सेकंड के लिए रुके फिर आराम से नीचे आ जाए|

(याद रहे अगर आप हृदय रोग से ग्रस्त है और किसी भी तरह का ऑपरेशन हुआ हैं तो डॉक्टर की सलाह से ही करें|)

फायदे

  • इस योगा को करने से आपका मोटापा कम होता है|
  • आपके आँखों की रौशनी बढती है|
  • इसे करने से आप तनाव और डिप्रेशन से दूर रह पाते है|
  • इसे करने से आपकी पाचनक्रिया सही रहती है|
  • इससे आपकी हाथ, पेअर और पीठ की मांसपेशियां मजबूत होती है|

So guys आपको ये वाला article कैसे लगा ये comment section में ज़रूर बताना; साथ ही साथ कुछ suggestions हो तो बता देना और आपको किस topic पर article चाहिए ये भी बता देना|

आपका कोई personal question हो तो आप मुझे selfhelpinhindi@gmail.com पे मेल कर सकते हो| Thank you, stay connected & love you guys…

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments