Monday, September 26, 2022
HomeLife Skillsमानसिकता कैसे बदले? Mindset Changing Tips in Hindi

मानसिकता कैसे बदले? Mindset Changing Tips in Hindi

आज दुनिया में कितने ही ऐसे लोग है जिनके पास औरों के मुकाबले ज्यादा नॉलेज और स्किल्स है पर इसके बावजूद वो लोग अपने जिंदगी में इतने सफल नहीं है और कितने ही ऐसे लोग है जिन लोगों के पास ज्यादा स्किल्स या नॉलेज नहीं है पर वो लोग जिंदगी में ज्यादा सफल है और इसका सबसे बड़ा कारण है उनकी मानसिकता (Mindset)|

क्योंकि चाहे आप में कितनी भी ज्यादा काबिलियत क्यों न हो लेकिन अगर आपकी मानसिकता ही नेगेटिव हो या आपकी सोच ही अगर छोटी हो तो आप अपने जिंदगी में कितना आगे बढ़ पाओगे? इसलिए नॉलेज और स्किल्स के साथ साथ आप को अपनी मानसिकता पे भी काम करना होगा| तो इस आर्टिकल के ज़रिये उन सारी चीज़ों के बारे में मैंने बताया है जिन्हें अपनाकर आप अपनी मानसिकता को बदल सकते हो और अपने जिंदगी में सकारात्मक बदलाव ला सकते हो|

मानसिकता का मतलब क्या है?

  • मानसिकता मतलब आपकी सोच और आपका दुनिया को देखने का तरीका| आपकी मानसिकता आपके जीवन में आये गए अनुभव की वजह से, आपके आस पास के लोगों की वजह से और आपकी शिक्षा की वजह से बनती है| आपके विचार और आपकी धारणाओं (Beliefs) के आधार पर ही आपकी मानसिकता तय होती है| साथ ही साथ आपके मानसिकता के आधार पर ही आपकी आदतें भी तय होती है|
  • मानसिकता आपके ऐटिटूड का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और आपकी भावना, आपके विचार और आपकी सोच आपके ऐटिटूड ऊपर ही निर्भर रहती है|

मानसिकता को बदलने के तरीके

1) ऐसे लोगों से दूर रहो:

मानसिकता कैसे बदले ऐसे लोगों से दूर रहो

  • कई बार बचपन से ही हमारे parents के ज़रिये या फिर हमारे आस पास के लोगों के ज़रिये हमारे मन में ऐसी नेगेटिव बातें भर दी जाती है| जैसे की तुमसे नहीं हो पायेगा, तुम्हारी बस की बात नहीं है, तुम ज्यादा बड़ा बनने की मत सोचो या फिर बड़े सपने देखने की तुम्हारी हैसियत नहीं है वगैरह वगैरह|
  • इन जैसी बातों से हमारे मन में एक नेगेटिविटी पैदा होती है और हम इस बात को सच मानकर खुद को कमजोर समझने लगते है, खुद की काबिलियत पर शक करने लगते है और हम कुछ नहीं कर सकतें ऐसा हम सोचते है यही हमारी मानसिकता बन जाती है|
  • अगर आप अपनी मानसिकता को बदलना चाहते हो तो ऐसे लोगों से दूर रहो जो आप को हर वक़्त नेगेटिव बातें बोलते है या आप को डिमोटिवेट करते है और ऐसे में खुद पर आत्मविश्वास रखो और ऐसे लोगों को और उनकी बातों को नज़रअंदाज़ करो|

2) खुद पर काम करो:

  • मानलो अगर आप किसी चीज़ में कमजोर हो जैसे की इंग्लिश बोलने में या फिर कम्युनिकेशन स्किल्स में या और किसी चीज़ में कमजोरी हो| तो इन कमजोरियों पर काम करने की बजाय हम अपने आप को दूसरों से compare करने लगते है और ऐसे में हम एक नकारात्मक मानसिकता में जीने लगते है और कही न कही हमे ये लगने लगता है की हम इन कमजोरियों को कभी दूर ही नहीं कर सकतें|
  • लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है जरासल आप को यहाँ थोड़ी हिम्मत दिखा कर अपने कमजोरियों पर काम करने की ज़रूरत है; हा हो सकता है शुरुवात में आप को थोड़ी दिक्कत हो क्योंकि हमें अपने comfort zone में जीने की आदत होती है पर एक बार आपने खुद की कमजोरियों पर काम करना शुरू कर दिया तो धीरे धीरे कर के ये कमजोरी आपकी ताकत बन जायेगी और साथ ही साथ आपने जो खुद के प्रति अपनी जो नकारात्मक मानसिकता बना ली है वो भी खत्म हो जाएगी|

3) वक़्त के साथ बदलो:

  • ऐसे कई सारे लोग मिलेंगे जो सालों साल उसी तरह की जिंदगी जीते है और इस वजह से वो अपने जिंदगी में कोई खास परिवर्तन नहीं कर पातें और इन सब की वजह है उनकी पुरानी सोच और उससे जुडी उनकी मानसिकता|
  • इसीलिए वक़्त के साथ नए नए स्किल्स को सीखना, तरह तरह की नॉलेज लेना और पुराणी सोच को हटाकर चीज़ों को नए ढंग से सोचना बहुत ज़रूरी होता है इससे आपका attitude बदल जाता है और साथ ही साथ आपकी मानसिकता भी बदल जाती है|

4) बुरी संगत और आदत को छोड़ दो:

  • कहते है की आप जिन लोगों के संगत में रहते हो आप उसी तरह के बन जाते हो मतलब आपके सोचने समझने का तरीका, आपके विचार और आपकी आदतें भी उन लोगों जैसी ही बन जाती है| ऐसे में अगर आप बुरे लोगों की संगत में रहे तो आपकी भी मानसिकता उन लोगों जैसी बन जाएगी और आप बुरी आदतों में फस जाओगे|
  • इसीलिए जिंदगी में जो आप को सही राह दिखाए, जो आप को support करें और जिनके विचार अच्छे हो ऐसे लोगों के संगत में रहिये ताकि आप एक सही मानसिकता के साथ जी सकें|

5) खुद से बात (Self talk) करो:

  • Self talk करना हमारी नकारात्मक मानसिकता को बदलने के लिए बहुत ही फायदेमंद है| इससे हमारा तनाव कम हो जाता है, हम खुद को मोटीवेट कर पाते है, किसी भी चीज़ में हम better perform कर पाते है और साथ ही साथ अगर मन में कोई नेगेटिव विचार आ भी जाए तो हम उस वक़्त खुद से पॉजिटिव self talk कर के उस नेगेटिविटी को दूर कर सकते है|
  • इससे हमने खुद के प्रति जो नेगेटिव सोच बना रखी है या जो नेगेटिव मानसिकता बना रखी है वो खत्म होने लगती है| Self talk के साथ आप positive affirmations को भी try कर सकते हो और ये भी आपके लिए बेहद फयदेमंद है|

6) अपने Achievements को याद करो:

मानसिकता कैसे बदले अपने achievements को याद करो

  • कभी कभी जिंदगी में हम ऐसे निराश हो जाते है की हमें आगे कुछ समझ नहीं आता और ऐसे में हम अपने strengths को और अपने past achievements को भूलकर नकारात्मक मानसिकता का शिकार बन जाते है|
  • अगर अपने मानसिकता को सकरात्मक रखना चाहते हो तो जब भी जिंदगी में difficult situation आये तो अपने achievements को ज़रूर याद करें और साथ ही साथ अपने strengths को ध्यान में रख कर सही action लें और अपनी जिंदगी में आगे बढ़े|

इन्हे जरूर पढ़ें

  1. इच्छाशक्ति (Will power) बढ़ाने के तरिके
  2. अपने ऐटिटूड को Strong कैसे बनाये
  3. जब लाइफ में कुछ समझ ना आये तो ये चींजे करें 

So guys आपको ये वाला article कैसे लगा ये comment section में ज़रूर बताना; साथ ही साथ कुछ suggestions हो तो बता देना और आपको किस topic पर article चाहिए ये भी बता देना|

आपका कोई personal question हो तो आप मुझे selfhelpinhindi@gmail.com पे मेल कर सकते हो| Thank you, stay connected & love you guys…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments