Sunday, October 2, 2022
HomeHealth and FitnessDepression क्या है? जानिए डिप्रेशन से बाहर निकलने का उपाय

Depression क्या है? जानिए डिप्रेशन से बाहर निकलने का उपाय

आजकल stress, anxiety और मन में Negative feelings आना बहुत ही common problems बन गयी है पर ठीक है अगर ये problem आपको किसी situation की वजह से आती है और एक दो दिन रहती है तो ये बिलकुल normal बात है पर अगर आप हर वक़्त हर पल stress और anxiety feel करते हो, negative feel करते हो अगर ऐसा लम्बे समय तक आपके साथ हो रहा है तो ये डिप्रेशन है |

डिप्रेशन में stress, anxiety और हमारे negative emotions बढ़ जाते है और ये हमारे ऊपर हावी हो जाते है और ऐसे में हमारे दिमाग के साथ साथ शरीर पर भी बुरा प्रभाव डालते है | डिप्रेशन के वक़्त व्यक्ति मन में हरवक्त उदासी छायी रहती है, आलस्य आता है और आत्महत्या के भी विचार आते है और इसी वजह से डिप्रेशन में कई लोग आत्महत्या भी कर लेते है | वैसे ये समस्या तो गंभीर है पर इसका अगर सही से इलाज किया जाए तो व्यक्ति डिप्रेशन से बाहर निकल सकते है |

डिप्रेशन क्या है ?

डिप्रेशन एक मानसिक बिमारी (Mental illness) है जिसमें आपको हर वक़्त stress, anxiety रहती है, आप हर वक़्त negative emotions में घिरे रहते है, मन में बुरे खयाल चलते रहते है, कुछ अच्छा नहीं लगता, दुख होता है, आप अंदर से कमजोर महसूस करते हो, रोने का मन करता है, आपको अंदर से अच्छा feel नहीं होता और अगर ये सभी चीज़े लम्बे समय से मतलब कई हफ़्तों या कई महीनों से आपके साथ हो रही है तो इसे हम डिप्रेशन कहते है |

Depression kyu hota hai ?

डिप्रेशन  के कई सारे कारन है जैसे…

1) Money problem:

  • अगर किसी के life में पैसों को लेकर problems है जैसे उसके ऊपर बहुत बड़ा कर्जा है या पैसों का बहूत बड़ा नुकसान हो गया हो जैसे चोरी वगैरा या पैसे कमाने का कोई जरिया ना हो तो ऐसे में वो व्यक्ति stress में आ सकता है और आगे जाकर वो डिप्रेशन का शिकार हो सकता है |

2) Job problem:

  • अगर अचानक से किसी की job चली जाए तो ऐसे में आगे क्या करना है इसके बारे में ये व्यक्ति सोच नहीं पाता वो negative emotions से घिर जाता है और ऐसी situation में व्यक्ति डिप्रेशन में जा सकता है |

3) किसी के मर जाने से या छोडके चले जाने से:

   (By someone’s dead or leave)

  • अगर कोई करीबी व्यक्ति मर जाता है या छोडके चला जाता है तो ऐसे में अगर वो व्यक्ति मानसिक रूप से और भावनात्मक रूप से कमजोर हुआ तो डिप्रेशन में जा सकता है |

4) Future की tension (Future’s tension):

  • हम में से ज्यातर लोग अपने future को लेकर या अपने करियर को लेकर परेशान रहते है वैसे तो ये normal सी बात है पर अगर कोई व्यक्ति इस चीज़ को लेकर कुछ ज्यादा ही परेशान रहने लगे, stress feel करने लगे तो ऐसे व्यक्ति को डिप्रेशन हो सकता है |

5) गंभीर बिमारी (Serious illness):

डिप्रेशन से बाहर निकलने का उपाय illness

  • अगर किसी व्यक्ति को कोई गंभीर बिमारी हो तो उसके बारे में सोच सोच कर वो अंदर ही अंदर घुटता रहता है, खुदको कमजोर महसूस करता है, हरवक्त negative feel करता है, हरवक्त डर में जीता है ऐसे व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार हो जाते है |

6) Hormones का बदलाव (Change in hormones) :

  • कई बार शरीर में hormones के बदलाव के कारन भी डिप्रेशन आने की संभावना रहती है |

7) रिश्तों में तनाव (Relationship problems) :

  • कई बार आपसी मतभेद के कारन, झगड़ों के कारन रिश्तों में तनाव आ जाता है और इसी कारन व्यक्ति परेशान हो जाता है, stress में आ जाता है और डिप्रेशन का शिकार हो जाता है |

8) Personal problem :

  • किसी व्यक्ति के life में कोई ऐसी बात होती है या कोई ऐसी problem होती है जो वो किसीके साथ share नहीं कर सकता और उसी बात को लेकर वो अंदर ही अंदर घुटता रहता है, परेशान रहता है, दुखी रहता है और इसी वजह से वो व्यक्ति डिप्रेशन में जा सकता है |

डिप्रेशन के लक्षण

जब भी इंसान डिप्रेशन में होता है तब वो हरपल negative emotions से घिरा रहता है, उसे बेचैनी होती है, अंदर से एक अजीब सा डर लगने लगता है, वो अंदर से दुखी महसूस करता है, हताश होता है, निराश होता है, वो ज्यादा गुस्सा करने लगता है, उसे चिड़चिड़ापन होता है, वो खुदको अपराधी समझने लगता है, वो सही से सोच नहीं पाता, उसकी निर्णय लेने की क्षमता कम हो जाती है, वो खुदको हारा हुआ समझने लगता है, उसे या तो काम नींद आती है या तो अधिक, उसका वजन या तो कम होने लगता है या तो अधिक, वो कम सक्रीय (active) रहता है, उसे कोई भी काम करने में दिक्कत होने लगती है ये सभी डिप्रेशन के लक्षण है |

डिप्रेशन के उपाय

1) Psychiatrist (मनोचिकित्सक) से मिलो

(Meet a psychiatrist) :

  • डिप्रेशन एक मानसिक बिमारी है जिसे नज़र अंदाज़ नहीं करना चाहिए इसलिए जब भी आपको डिप्रेशन के लक्षण दिखाई दे और वो लम्बे समय तक यानी 3 से 4 हफ़्तों या 1 से 2 महिनो से दिखाई देने लगे तो ऐसे में मनोचिकित्सक से ज़रूर मिलना चाहिए और उनसे सलाह लेकर अपना इलाज करवाना चाहिए |
  • अब यहाँ पे कई लोग समझते है की मनोचिकित्सक के पास जाने से लोग हमे पागल कहेंगे वगैरा वगैरा तो सिर्फ लोगों के डर से कई सारे डिप्रेशन के patients अपना इलाज नहीं करते पर जैसी हमे शारीरिक बिमारी हो जाती है वैसे ही डिप्रेशन भी एक मानसिक बिमारी है और अगर आप सही से इसका इलाज करवाए तो आप जल्द से जल्द डिप्रेशन से बाहर निकल सकते है |

2) अपने आपको व्यस्त रखो (Keep yourself busy) :

डिप्रेशन से बाहर निकलने का उपाय busy

  • सारा दिन अपने आपको किसी न किसी काम में व्यस्त रखो | आप अपना दिन भर का schedule बनाओ, अपने ज़िन्दगी का एक लक्ष्य (goal) बनाओ और उस पर काम करो, साथ ही साथ आप वो चीज़े करो जो आपको पसंद है जिसमे आपका मन लगता हो जो आपको ख़ुशी देती हो |
  • अगर आप अपने आपको व्यस्त नहीं रखोगे तो आपके मन में negative thoughts आएंगे, आप परेशान और बेचैन हो जाओगे, stress और anxiety महसूस करोगे इसलिए ऐसे वक़्त में अपने आपको व्यस्त रखना बहुत ही ज़रूरी होता है इससे आपके दिमाग में negative thoughts आने के chances कम हो जाएंगे और आप बेवजह की परेशानी या stress महसूस नहीं करोगे और इससे आप डिप्रेशन से बाहर निकल पाओगे |

3) अकेले मत रहो (Don’t be alone) : 

  • अगर आप डिप्रेशन में हो तो अकेले मत रहो हमेशा किसीना किसी के साथ रहो क्योंकि अकेले में आपको negative thoughts आने लगेंगे, stress और anxiety feel होगी इसलिए आप ज्यादातर समय लोगोंके साथ रहने की कोशिश करो |

4) अपनी बाते share करो (Share your thoughts) :

  • आपके मन में जो बातें चल रही है, आप अंदर से कैसे महसूस कर रहे हो, आपको किस बात की परेशानी हो रही है ये सभी बातें अपने किसी close friend से या family member से share करो और साथ ही साथ अपने मनोचिकित्सक से भी share करो | अपने मन की बाते share करने से आप अंदर से हलका महसूस करोगे, आपकी stress और anxiety कम हो जायेगी |

5) अच्छे लोगों के साथ समय बिताओ :

(Spend time with nice people)

  • जो लोग आपसे अच्छे से पेश आते है, आपको ख़ुशी महसूस कराते है, आपको हसाते है , आपको motivate और inspire करते है ऐसे लोगों के साथ समय व्यतीत करो | इससे आप अंदर से अच्छा महसूस करोगे, आपके मन में negative thoughts नहीं आएंगे, आप किसी भी तरह anxiety या stress महसूस नहीं करोगे और आपको  mental और emotional support महसूस होगा |

6) अच्छे songs सुनो (Listen good music) :

  • जो आपको अंदर से अच्छा महसूस कराये, आपमें जोश भर दे ऐसे songs सुनो क्योंकि अच्छे songs सुनने से हमारा stress level कम हो जाता है पर हा sad songs न सुने क्योंकि इससे आप अंदर से दुखी महसूस करोगे और आपके मन में negative thoughts आएंगे |

7) Yoga, meditation और exercise करो :

(Do yoga meditation and exercise)

डिप्रेशन से बाहर निकलने का उपाय meditation

  • Yoga, meditation और exercise से हमारा शरीर और दिमाग दोनों मजबूत बन जाते है | इन्हे रोज़ाना करने से डिप्रेशन में आयी हुई थकान और कमजोरी दूर हो जाती है, मन स्थिर रहता है, concentration बढ़ता है, stress और anxiety कम हो जाती है और मन में negative thoughts नहीं आते और इससे आप जल्द ही डिप्रेशन से बाहर निकल पाते हो |

8) ये चीज़ेँ ज़रूर खाये :

  • टमाटर, प्याज़, मशरूम, काजू, अखरोट जैसे पदार्थ आपको डिप्रेशन से बाहर निकलने में मदद करते है इसलिए अगर आप डिप्रेशन में हो तो रोज़ाना इन चीज़ों का सेवन करें |

इन्हे भी पढ़े

So guys आपको ये वाला article कैसे लगा ये comment section में  ज़रूर बताना; साथ ही साथ कुछ suggestions हो तो बता देना और आपको किस topic पर article चाहिए ये भी बता देना |

आपका कोई personal question हो तो आप मुझे selfhelpinhindi@gmail.com पे मेल कर सकते हो |

Thank you, stay connected & love you guys…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments